Logo
ब्रेकिंग
सफाई कर्मी की विधवा को दी गई 25 हजार की आर्थिक सहायता नेवढ़िया के निर्विरोध कोटेदार बने सुरेशकुमार अतीक के आर्थिक साम्राज्य में सफेदपोश पार्टनर भी युवक ने फाँसी लगाकर किया आत्महत्या सांसद प्रतापगढ़ एवं राष्ट्रीय महामंत्री ओबीसी मोर्चा संगम लाल गुप्ता ने गंगा गोमती के तट पर प्रातः योगाभ्यास के बाद स्वच्छता अभियान में गोमती में जलकु... राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा वैश्विक मातृ-पितृ दिवस पर भव्य काव्य-गोष्ठी दैनिक लोकमित्र ई पेपर - 03.06.2023 दैनिक लोकमित्र ई पेपर - 02.06.2023 प्रिन्ट मीडिया आज भी सबसे महत्वपूर्ण व विश्वसनीय: सौम्य मिश्र उपजिलाधिकारी सड़क दुर्घटना में युवक की दर्दनाक मौत

मातृभाषा ही सामाजिक एवं भाषाई पहचान

प्रतापगढ़ (ब्यूरो)। जन शिक्षण संस्थान के तत्वाधान में वि.खं. सदर के खुशखुशवापुर में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए संस्थान के निदेशक यू.पी. सिंह ने इस दिवस के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए बताया कि जन्म लेने के बाद मानव जो प्रथम भाषा सीखता है उसे मातृभाषा कहते है। किसी भी व्यक्ति की सामाजिक एवं भाषाई पहचान इससे होती है। यूनेस्को द्वारा दुनिया भर के विभिन्न देशो में उपयोग की जाने वाली 7000 से अधिक भाषाओ की पहचान की गई है। इसी बहुभाषीवाद को मनाने के लिए 21 फरवरी का दिन चुना गया है। भारत में अनेकता में एकता के सिद्धान्त के तहत अपनी सांस्कृतिक विरासत का सदैव आभारी है जिसमें विभिन्न भाषाएं भूमिका निभाती है। कार्यक्रम को संस्थान के कार्यक्रम अधिकारी अमित प्रताप सिंह तथा सहायक कार्यक्रम अधिकारी वर्षा घुले ने भी सम्बोधित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.